Consumer VOICE

  Join Us Donate Now

सामान खरीदने से पहले तुलनात्मक जांच करना जरुरी

भारत में विदेशी कंपनियों के आने का एक सीधा-साधा फायदा अब उपभोक्ताओं को यह हुआ है कि कुछ भी खरीदने के लिए एक वस्तु के बहुत सारे विकल्प उनको बाजार में मिल जाते हैं। एक ही सामान को बेचने के लिए बाजार में कितने ब्रांड हैं इसका पूरा पता लगाना संभव नहीं है और ना ही इतना समय है कि हम एक-एक ब्रांड के बारे में जानकारी लें और उसे जांच-परख कर अपना फैसला ले सकें।

उपभोक्ता भी इस बात से भली-भाति परिचित हैं कि आज बाजार में विज्ञापनों की इतनी भरमार है कि विज्ञापनों को देखने के लिए भी बहुत समय लगाना पड़ता है तब भी यह निर्णय नहीं लिया जा सकता है कि किस विज्ञापन में सही जानकारी मिल रही है। कुछ विज्ञापन हमें बताते हैं कि उनके ब्रांड में क्या-क्या फीचर नहीं है या उनका मूल्य उनके मुकाबले के उत्पादों से कितना कम या ज्यादा है। कई बार तो इस बात की मुश्किल होती है कि विज्ञापन हमें क्या नहीं बताते बजाए इसके कि वे हमें क्या बताते हैं। मसलन, अगर बाजार में टेलीविजन खरीदने जाते हैं तो हर ब्रांड के इतने मॉडल हैं जो कि सामान्य कीमतों और फीचर के साथ बिक्री के लिए मिल रहे हैं कि एक आम उपभोक्ता की जान मुश्किल में पड़ जाती है।

उपभोक्ता जानें, क्या है तुलनात्मक जांच

तुलनात्मक जांच का अभिप्राय है कि एक ही प्रकार के प्रयोग में आनेवाली वस्तुएं जो एक जैसे काम के लिए खरीदी जाती है उन्हें विभिन्न पैमानों पर जांचा-परखा जाता है और इस बात का पता लगाया जाता है कि कौन सा ब्रांड किस पैमाने पर खरा उतरता है और कौन सा नहीं।

उत्पादों को सरकारी मान्यता प्राप्त लेबोट्रेरी में जांच के लिए भेजा जाता है और सर्विसिस के लिए उपभोक्ताओं से परामर्श लिया जाता है। इस जांच के लिए बाजार से उत्पादों को खरीदा जाता है ताकि उत्पादकों को पता न चल सके कि कौन-सा नमूना खरीदा गया है। जांच के नमूने भेंट के रूप में भी नहीं लिए जाते हैं क्योंकि इससे जांच पर असर पड़ने की संभावना रहती है।

वॉयस करता है उपभोक्ता उत्पादों का तुलनात्मक अध्ययन

हम अपने पाठकों की जानकारी के लिए बता दें कि वॉयस देश की मान्यता प्राप्त लैब में उपभोक्ता उत्पादों के परीक्षण कर उसकी सही जानकारी अपने उपभोक्ताओं तक लाता है। वॉयस लगातार पिछले 35 यह काम रह रहा है। देश के उपभोक्ताओं को भी इसका लाभ हो रहा है।

Divya Patwal

VOICE

Translate »