Consumer VOICE

  Join Us Donate Now

कोविड-19 का प्रकोप: ऐसे बढ़ायें अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली यानी इम्यून सिस्टम

कोविड.2019 का प्रकोप पूरी दुनिया में फैल गया है। वैश्विक महामारी के इस दौर में जब हम सामाजिक दूरी को बनाए रख रहे हैं तो इस समय हमें अपने स्वास्थ्य का भी विशेष ध्यान रखना महत्वपूर्ण है। इस लेख के माध्यम से कंस्यूमर वॉयस यही समझाने का प्रयास कर रहा है कि आप कैसे अपने इम्यून सिस्टम को बढ़ाकर अपने स्वास्थ्य की देखभाल कर सकते हैं।

खाना मन लगाकर खायें

हमें इस बात का विशेष ध्यान रखना होगा कि हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन की हमारे समग्र स्वास्थ्य में और हमारी प्रतिरक्षा ;इम्यून सिस्टमद्ध को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इस समय हमको संतुलित आहार का अपना लक्ष्य रखना चाहिए। हमारे भोजन में साबुत अनाजए दालेंए फल और सब्जियां और स्वस्थ वसा ;जो मछलीए नट्स और जैतून के तेल जैसे खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैंद्ध अच्छी मात्रा में होना चाहिए। इसके साथ ही सब्जियां और फल जो बीटा कैरोटीनए एस्कॉर्बिक एसिडए एंटीऑक्सिडेंट और अन्य आवश्यक विटामिन के महत्वपूर्ण समृद्ध स्रोत हैंए नियमित रूप से पर्याप्त मात्रा में सेवन किया जाना चाहिए क्योंकि वे संक्रमण के खिलाफ शरीर में लचीलापन बनाने में मदद करते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यदि शरीर को पर्याप्त मात्रा में कुछ आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त नहीं होते हैंए तो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को नुकसान हो सकता है। इसका मतलब यह नहीं है कि इन पोषक तत्वों की बढ़ती खपत के साथ शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती रहेगी।

हमें जानना जरूरी है कि किण्वित या खमीर खाद्य पदार्थ और प्रोबायोटिक्स जैसे दही और दही का सेवन आंत के माइक्रोबायोटा को स्वस्थ रखेगा जो सीधे प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है।

इस अवधि के दौरान शारीरिक गतिविधियाँ सीमित होने के कारणए भाग के आकारों की कैलोरी खपत पर नज़र रखने की सिफारिश की गई है। तले और शक्कर वाले स्नैक्स का सेवन करने से बचें। भोजन में आपके द्वारा जोड़े जाने वाले नमक की मात्रा को सीमित करें। फाइबरए और प्रोटीन से भरपूर भोजन लें।

प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में आम भारतीय जड़ी बूटियों और मसालों की भूमिका

अदरकए चूनाए आंवला ;आंवलाद्धए लहसुनए तुलसी के पत्तेए और काला जीरा और हल्दी का सेवनए आदि इनके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। उनमें से कई स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने में सहायता करते हैं। सूरजमुखी के बीजए कद्दू के बीजए और तरबूज के बीज विटामिन ई के अच्छे स्रोत हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। फ्लैक्स सीड्स ओमेगा .3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं जिनमें एंटी.इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं।

शोध से यह भी पता चला है कि विटामिन डी की मध्यम दैनिक खुराक ;सूर्य के प्रकाश के ऐसे ही एक स्रोत होने के कारणद्ध से सर्दीए फ्लू और दूसरे वायरस से सुरक्षा मिल सकती है। बरामदे में बैठकी 10.15 मिनट के लिए सूर्य का तप लेना एक अच्छा विचार है।

हाइड्रेटेड रहना यानी पर्याप्त तरल पदार्थ लें जिससे त्वचा पानीदार बनी रही
हाइड्रेटेड रहने के लिए हर दिन 6.8 गिलास पानी पिएं। जलयोजन रोगाणुओं और अन्य विषाक्त तत्वों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है।

नियमित रूप से व्यायाम करें

स्वस्थ रहने के लिए स्वस्थ भोजन को नियमित व्यायाम के साथ जोड़ा जाना चाहिए। वर्कआउट करना हमारे मूड को रिफ्रेश करने का एक अविश्वसनीय शक्तिशाली तरीका है। यह हमारी प्रतिरक्षा को बढ़ाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। यह आपके शरीर के एंटीबॉडी और श्वेत रक्त कोशिकाओं को अधिक तेजी से प्रसारित करने का कारण बनता हैए जो कि अधिक तेजी से बग का पता लगाने और शून्य करने में सहायता करता है। इस तरह से सक्रिय होने से तनाव हार्मोन भी कम होता हैए जिससे हमारे बीमार होने की संभावना कम हो जाती है। यहां तक ​​कि 30 .45 मिनट का हल्का व्यायाम भी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भूमिका निभाएगा। नियमित व्यायाम चयापचय में सुधार करता हैए जिसका शरीर की प्रतिरक्षा के साथ सीधा संबंध है। शोध बताते हैं कि जो लोग सप्ताह में कम से कम पांच दिन व्यायाम करते हैं उनमें ठंड के साथ आने का जोखिम लगभग आधा था क्योंकि जो अधिक गतिहीन थे। व्यायाम की कुंजीए हालांकिए इसे मॉडरेशन में करना है। बहुत अधिक करने से शरीर पर तनाव भी डाला जा सकता है जो किसी भी लाभ की तुलना में अधिक नुकसान पहुंचाने वाले प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा सकता है। सप्ताह के अधिकांश दिनों में 30.60 मिनट का व्यायाम ;या तो जोरदार या मध्यमद्ध पर्याप्त माना जाता है।

पर्याप्त नींद लें

शरीर की प्रतिरक्षा बनाने में मदद करने के लिए 7.8 घंटे की एक अच्छी नींद सबसे अच्छा तरीका हैय कम नींद मस्तिष्क की गतिविधि को बाधित कर सकती है। नींद की कमी शरीर को आराम करने से रोकेगी और यह अन्य शारीरिक कार्यों को बाधित करेगा जिसका सीधा प्रभाव प्रतिरक्षा पर पड़ेगा। नींद सिस्टम को रिबूट करती है। नींद की कमी के कारण शरीर कोर्टिसोल जैसे तनाव हार्मोन को बाहर निकालता है जो शरीर को जागृत और सतर्क रखता हैए जो प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा सकता है। शोध इस बात की पुष्टि करते हैं कि जो लोग दिन में कम से कम छह से सात घंटे सोते हैंए उनमें ठंड लगने की संभावना चार गुना कम होती हैए जो छह से कम घड़ी वाले लोगों की तुलना में कम होते हैं।

अपने तनाव के स्तर को कम करने की कोशिश करें

यह समय मानसिक तंदुरुस्ती के लिए बहुत सही है। महामारी के कारण आसपास बढ़ती चिंता दुनिया के लाखों लोगों को प्रभावित कर रही है। हमारे प्रतिरक्षा स्वास्थ्य और हमारे मानसिक स्वास्थ्य के बीच एक मजबूत संबंध है। पुरानी तनाव या चिंता के तहतए शरीर तनाव हार्मोन का उत्पादन करता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा देता है। अनुसंधान ने स्थापित किया है कि जिन लोगों पर जोर दिया जाता है वे बीमारी के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। एक अध्ययन मेंए कुछ स्वस्थ वयस्कों को कोल्ड वायरस से अवगत कराया गया और फिर पांच दिनों के लिए संगरोध में निगरानी की गई। जिन लोगों पर जोर दिया गया थाए उनमें साइटोकिन्सए अणु जो सूजन को ट्रिगर करते हैंए और बीमार होने की संभावना के बारे में दुगना होने की संभावना थी। इसके अलावाए जिन लोगों को तनाव होता हैए वे अन्य स्वस्थ आदतों पर ध्यान देने की कम संभावना रखते हैंए जैसे कि सही भोजन करना और पर्याप्त नींद लेनाए जो हमने सीखा हैए प्रतिरक्षा को प्रभावित कर सकते हैं। यद्यपि आप अपने जीवन में तनाव से बच नहीं सकते हैंए आप इसे बेहतर तरीके से प्रबंधित करने में मदद करने के लिए रणनीतियों को अपना सकते हैं। 50 वर्ष और उससे अधिक आयु के वयस्कों के एक अध्ययन से पता चला है कि जिन लोगों ने या तो दैनिक व्यायाम नियमित रूप से किया या मन की ध्यान साधना कीए उन्हें समूह के अन्य सदस्यों की तुलना में श्वसन संक्रमण से बीमार होने की संभावना कम थी।

धूम्रपान और पीने की आदतें

धूम्रपान और शराब पीने से बचने की सिफारिश की जाती है।
अंत मेंए कोरोनोवायरस महामारी के दौरान दिन.प्रतिदिन के जीवन से निपटना हममें से सबसे अधिक चिंता में भी चिंता को ट्रिगर करने के लिए पर्याप्त है। लेकिन सही साधनों से हम इसके प्रभाव को कम कर सकते हैं।

Divya Patwal

VOICE

Translate »